कोलकाता में 50 साल से भी पुराने माझेरहाट पुल के टूट के गिरने से बड़ा हादसा

Spread the love

बहाल और इक़बाल इलाके को आपस में जोड़ता था यह पुल

मंगलवार की शाम को पश्चिमी बंगाल की राजधानी कोलकाता में 50 साल से भी पुराने माझेरहाट पुल के गिर जाने से कई लोगों की जानें मुसीबत में पड़ गयी। कोलकाता में माझेरहाट पुल अचानक से टूट कर गिर गया जिससे पुल पर मौजूद कई सारे वाहन जैसे बसें, करें आदि इस हादसे की चपेट में आ गए। घटना के बाद वहां पर अफरा-तफरी मच गई। पुल के नीचे माझेरहाट जाने वाली रेलवे लाइन है। इस दुर्घटना के बाद सड़क व रेल मार्ग पर यातायात को पूरी तरह से रोक दिया गया। बताया जा रहा है कि कुछ दिन से इस पुल की मरम्मत का काम चल रहा था और उसी दौरान ये दुर्घटना घटित हो गयी। यह पुल बहाला और इकबाल नामक इलाके को आपस में जोड़ता था।

हादसे के दौरान कई सारे वाहन पुल के ऊपर से गुज़र रहे थे। इस दुर्घटना के कारण कई लोगों की मौत हो गयी और बहुत से लोग जख्मी हो गए। ज़ख़्मी लोगों को पास के सरकारी अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया। जहाँ उनका उपचार जल्दी से कराया जा सके। घटना की जानकारी मिलते ही कोलकाता पुलिस और दमकल विभाग के कर्मी घटनास्थल पर पहुंच गए। उन्होंने जल्द ही बचाव राहत कार्य शुरू कर दिया। सेना के कर्मियों ने भी बचाव कार्य में सहायता की।

 

बुधवार को ममता बनर्जी ने किया घटनास्थल का दौरा

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार की शाम को घटनास्थल पर पहुंचकर घटनास्थल का जायज़ा लिया। ममता बनर्जी ने कहा कि घायल लोगों को हर संभव मदद दी जाएगी। ममता बनर्जी ने कहा “हम इस हादसे की जांच करवाएंगे।” ममता जी ने कहा कि “मंगलवार को हुए हादसे से वह बेहद दुखी है। राज्य में कई ऐसे पुल हैं जो काफी पुराने हो गए हैं और जर्जर स्थिति में खड़ें हैं, ममता बनर्जी के अनुसार सरकार उन पुलों के लिए भी जल्द से जल्द आवश्यक कदम उठाने की कोशिश कर रही है।” घटनास्थल का जायज़ा लेने के बाद राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हादसे के कारण मरने वालों के परिजनों को 5 लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता करने की घोषणा की है। दरअसल ममता बनर्जी दार्जिलिंग दौरे पर थी परन्तु जैसे ही उन्हें खबर मिली कि कोलकाता में माझेरहाट पुल के गिरने से बड़ा हादसा हो गया है, उन्होंने दार्जिलिंग दौरा बीच में ही रद्द करके कोलकाता के लिए रवाना हो गयी।

ममता बनर्जी ने गुरूवार की शाम को संवादाता सम्मलेन में कहा कि “हादसे वाली जगह में जो लोग पुल के नीचे रहते हैं उनसे मेरा आग्रह है कि वे अब पुल के नीचे न रहें क्योंकि वहां रहना खतरे से खाली नहीं है।” राज्य उन सभी लोगों की हर संभव मदद करने के लिए तैयार है जो इस प्रकार पुल के नीचे रहने के लिए मजबूर हैं। ममता बनर्जी ने इस हादसे के बाद पुलों को लेकर एक विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। गुरुवार की यह बैठक राज्य सचिववालय नबन्ना में हुई, इस बैठक में कोलकाता पुलिस और राज्य पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

 

 

 

देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कोलकाता में हुए माझेरहाट पुल हादसे पर दुःख ज़ाहिर करते हुए ट्वीट किया – “कोलकाता के पुल के एक हिस्से का गिरना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरी संवेदनाएं पीड़ितों के परिवारों के साथ है। मैं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूँ।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *