इंदिरा गाँधी स्टेडियम में कोर्ट की निगरानी में होगा कबड्डी मुकाबला

Spread the love

शनिवार को पुरुष व महिला खिलाड़ियों के बीच होगा मुकाबला

Asian Games 2018 KabaddiAsian Games 2018 KabaddiAsian Games 2018 Kabaddi

शनिवार को हाइकोर्ट की निगरानी में दिल्ली के इंदिरा गाँधी स्टेडियम में कबड्डी का एक मुकाबला होगा। कबड्डी का यह मुकाबला उन पुरुष व महिला खिलाडियों के बीच खेला जायेगा जिन्हें 18वें एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए टीम में चुना गया था तथा जिन्हें टीम में नहीं चुना गया था। पिछले महीने ही दिल्ली हाइकोर्ट ने ये मैच कराने का फैसला ले लिया था। भारत के अब तक के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि एशियाई खेलों में भारतीय पुरुष टीम पहली बार फाइनल में पहुँचने से नाकाम रही, जिसके कारण भारत स्वर्ण पदक हांसिल करने से चूक गया और भारतीय टीम को कांस्य पदक में ही संतोष करना पड़ा। भारत पिछले 7 बार से एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीत रहा है परन्तु इस बार वह स्वर्ण पदक जीतने में नाकाम रहा। ऐसा ही प्रदर्शन भारतीय महिला टीम का भी रहा, जो फाइनल में हार कर स्वर्ण पदक जीतने से चूक गयी।

 

महिपाल सिंह ने AKFI के अधिकारियों पर लगाया आरोप

Asian Games 2018 KabaddiAsian Games 2018 KabaddiAsian Games 2018 Kabaddi

एशियन गेम्स के लिए चुनी गयी भारतीय टीम में जिन खिलाड़ियों का चुनाव हुआ था उसके लिए काफी बवाल हो गया है। यह मामला तब सामने आया जब भारतीय कबड्डी टीम एशियाई खेलों के लिए रवाना होने वाली थी। पूर्व कबड्डी खिलाड़ी महिपाल सिंह ने न्याय के लिए दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया। महिपाल सिंह ने एमैच्योर कबड्डी फेडरेशन ऑफ इंडिया (AKFI) के अधिकारियों पर यह आरोप लगाया है कि उन्होंने घूस ले कर खिलाड़ियों का चयन किया है। इस बात पर निर्णय लेते हुए पिछले महीने कोर्ट ने फैसला किया था कि एशियाई खेलों के समापन के पश्चात दोनों टीमों के बीच कबड्डी का मुकाबला कराया जायेगा। चीफ जस्टिस राजेंद्र मेनन और जस्टिस वीके राव की पीठ ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा था कि एक टीम में वे खिलाड़ी होंगे जिन्होंने एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया था तथा दूसरी टीम में वे खिलाड़ी होंगे जिन्हें एशियाई खेलों के लिए नहीं चुना गया था। यह खेल पुरुष व महिलाओं के लिए अलग-अलग आयोजित किये जायेंगे। जिससे यह साफ़ हो जायेगा कि जो आरोप महिपाल सिंह ने एमैच्योर कबड्डी फेडरेशन ऑफ इंडिया (AKFI) के अधिकारियों पर लगाए हैं वह सही हैं या गलत।

कोर्ट ने 2 अगस्त के अपने आदेश में कहा था कि 15 सितम्बर की सुबह 11 बजे एमैच्योर कबड्डी फेडरेशन ऑफ इंडिया (AKFI) के द्वारा चयन प्रक्रिया का आयोजन किया जायेगा। पीठ ने हाईकोर्ट के न्यायाधीश (सेवानिवृत्त) एसपी गर्ग को खेल और युवा मंत्रालय के एक अधिकारी के साथ चयन का पर्यवेक्षक नियुक्त किया। महिपाल सिंह के वकील बीएस नागर ने कहा कि दरकिनार किये गए खिलाड़ियों की टीम में वही खिलाड़ी खेलेंगे जिन्होंने सेलेक्शन के दौरान नेशनल कैंप में हिस्सा लिया था और नागर ने यह भी बताया कि यह ज़रूरी नहीं है कि एशियाई खेल में टीम का हिस्सा रहे सभी खिलाड़ियों का इस मैच में भाग लेना अनिवार्य है।

 

मुकाबले को टालने की कोशिश करेंगे खिलाड़ी – बीएस नागर

Asian Games 2018 KabaddiAsian Games 2018 KabaddiAsian Games 2018 Kabaddi

बता दें कि AKFI का नेतृत्व लंबे समय से नेता जनार्दन सिंह गहलोत कर रहे हैं और इसकी वर्तमान अध्यक्ष उनकी पत्नी मृदुल भदौरिया हैं। गहलोत वर्तमान में इंटरनेशनल कबड्डी फेडरेशन के अध्यक्ष हैं। एशियाई खेलों के लिए कबड्डी टीम का चयन हो जाने के पश्चात् पूर्व कबड्डी खिलाड़ी महिपाल सिंह ने AKFI पर यह आरोप लगाया था कि उन्होंने टीम में खिलाड़ियों को चुनने में गड़बड़ी की है। इस केस के फैसले में दिल्ली हाईकोर्ट ने एशियाई खेलों के बाद दोबारा कबड्डी का मुकाबला करने का आदेश दिया। महिपाल सिंह के वकील बीएस नागर के अनुसार वे खिलाड़ी जो एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व कर के आ गए हैं वे इस मुकाबले में भाग लेने से मना कर सकते हैं।

बीएस नागर ने कहा कि 31 अगस्त को खिलाड़ियों ने कहा था कि अगर वे इस मुकाबले में भाग लेंगे तो इससे उनकी प्रतिष्ठा पर फर्क पड़ेगा, वे चोटिल हैं, ऐसी बातें वे इस मुकाबले को टालने के लिए कर रहे हैं। कोर्ट ने यह भी फैसला किया कि पूरी चयन प्रक्रिया की वीडियोग्राफी की जाएगी और रिकार्डिंग को स्पोर्ट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया संभालकर रखेगी। इस रिकॉर्डिंग की एक कॉपी कोर्ट के पास भी रखी जाएगी। जहां तक सेलेक्टर की नियुक्ति की सवाल है, चयन प्रक्रिया तीन सेलेक्टर के द्वारा की जाएगी, जिन्हें मिनिस्ट्री ऑफ यूथ अफेयर्स एंड स्पोर्ट्स के सेक्रेट्री नियुक्त करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *